शर्माना क्या घबराना क्या!

फिर हिज्र की लम्बी रात मियाँ संजोग की तो यही एक घड़ी।
जो दिल में है लब पर आने दो शर्माना क्या घबराना क्या॥

इब्ने इंशा

Leave a Reply