सजनी से करोगे बहाना क्या!

शब बीती चाँद भी डूब गया ज़ंजीर पड़ी दरवाज़े में।
क्यूँ देर गए घर आए हो सजनी से करोगे बहाना क्या॥

इब्ने इंशा

Leave a Reply