उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो!

यूँ ही बे-सबब न फिरा करो, कोई शाम घर में भी रहा करो,
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है, उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो|

बशीर बद्र

Leave a Reply