कहीं, आँसुओं से लिखा हुआ!

जिसे ले गई अभी हवा, वे वरक़ था दिल की किताब का,
कही आँसुओं से मिटा हुआ, कहीं, आँसुओं से लिखा हुआ।

बशीर बद्र

Leave a Reply