मेहन्दियों से रचा हुआ!

मुझे हादिसों ने सजा-सजा के, बहुत हसीन बना दिया,
मेरा दिल जैसे दुल्हन का हाथ हो, मेहन्दियों से रचा हुआ।

बशीर बद्र

Leave a Reply