उलझा हुआ सा कुछ!

देखा हुआ सा कुछ है तो सोचा हुआ सा कुछ,
हर वक़्त मेरे साथ है उलझा हुआ सा कुछ|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply