किताबों को हटाकर देखो!

धूप में निकलो घटाओं में नहाकर देखो
ज़िन्दगी क्या है, किताबों को हटाकर देखो |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply