ज़रा हाथ बढाकर देखो!

फ़ासला नज़रों का धोखा भी तो हो सकता है,
चाँद जब चमके ज़रा हाथ बढाकर देखो |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply