दरो-दीवार सजाकर देखो!

पत्थरों में भी ज़बाँ होती है दिल होते हैं,
अपने घर के दरो-दीवार सजाकर देखो |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply