बनता बिखरता हुआ सा कुछ!

साहिल की गीली रेत पर बच्चों के खेल-सा,
हर लम्हा मुझ में बनता बिखरता हुआ सा कुछ|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply