इक नयी दीवार देखना!

दो-चार गाम राह को हमवार देखना,
फिर हर क़दम पे इक नयी दीवार देखना|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply