चमकता हुआ सा कुछ!

धुँधली-सी एक याद किसी क़ब्र का दिया,
और! मेरे आस-पास चमकता हुआ सा कुछ|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply