फैल जाए न बाज़ार देखना!

अच्छी नहीं है शहर के रस्तों की दोस्ती
आँगन में फैल जाए न बाज़ार देखना…..!

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply