रोता हुआ सा कुछ!

फ़ुर्सत ने आज घर को सजाया कुछ इस तरह,
हर शय से मुस्कुराता है रोता हुआ सा कुछ|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply