हाथ में तलवार देखना!

मैदाँ की हार-जीत तो क़िस्मत की बात है,
टूटी है जिसके हाथ में तलवार देखना |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply