और क्या घर लेके आया है!

तेरी महफ़िल से दिल कुछ और तनहा होके लौटा है,
ये लेने क्या गया था और क्या घर लेके आया है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply