मेरा रहबर लेके आया है!

न मंज़िल है न मंज़िल की है कोई दूर तक उम्मीद,
ये किस रस्ते पे मुझको मेरा रहबर लेके आया है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply