वो ख़ंजर लेके आया है!

तबस्सुम उसके होठों पर है उसके हाथ में गुल है,
मगर मालूम है मुझको वो ख़ंजर लेके आया है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply