जानी पहचानी नहीं है!

नज़र के सामने है ऐसी दुनिया,
जो दिल की जानी पहचानी नहीं है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply