ये सज़ा कम तो नहीं है के!

क्यूँ हमें मौत के पैग़ाम दिए जाते हैं,
ये सज़ा कम तो नहीं है के जिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी

Leave a Reply