वो मिट जाता है इक दिन!

जो दिखता है वो मिट जाता है इक दिन,
नहीं दिखता वो, जो फ़ानी नहीं है|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply