आया हुआ दामन छूट गया!

जब दिल को सुकूँ ही रास न हो फिर किससे गिला नाकामी का,
हर बार किसी का हाथों में आया हुआ दामन छूट गया|

शमीम जयपुरी

Leave a Reply