कभी तोड़ दिए जाते हैं!

आबगीनों की तरह दिल हैं ग़रीबों के ‘शमीम’ ,
टूट जाते हैं कभी तोड़ दिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी

Leave a Reply