जो ज़हर पिए जाते हैं!

अपनी तारीख़-ए-मोहब्बत के वही हैं सुक़रात,
हँस के हर साँस पे जो ज़हर पिए जाते हैं|

शमीम जयपुरी

Leave a Reply