कभी जाम तक न पहुँचे!

मैं नज़र से पी रहा था कि ये दिल ने बददुआ दी,
तेरा हाथ ज़िंदगी-भर कभी जाम तक न पहुँचे।

शकील बदायूँनी

2 Comments

Leave a Reply