कहीं शाम तक न पहुँचे!

नयी सुबह पर नज़र है मगर आह ये भी डर है,
ये सहर भी रफ़्ता-रफ़्ता कहीं शाम तक न पहुँचे।

शकील बदायूँनी

Leave a Reply