मगर बात नहीं होती है!

कैसे कह दूँ कि मुलाकात नहीं होती है,
रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है|

शकील बदायूँनी

Leave a Reply