दास्ताँ उसने सुनानी और है!

नामाबर को कुछ भी हम पैगाम दें,
दास्ताँ उसने सुनानी और है|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply