दुनिया यार जानी और है!

अहले-दिल के अन्जुमन में आ कभी,
उसकी दुनिया यार जानी और है|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply