नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है!

दफ़्न कर दो हमें कि साँस मिले,
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है|

गुलज़ार

Leave a Reply