बस एक चुप-सी लगी है!

बस एक चुप-सी लगी है, नहीं उदास नहीं,
कहीं पे साँस रुकी है, नहीं उदास नहीं|

गुलज़ार

Leave a Reply