हमीं ने शाम चुनी है!

सहर भी, रात भी, दोपहर भी मिली लेकिन,
हमीं ने शाम चुनी है, नहीं उदास नहीं|

गुलज़ार

Leave a Reply