किसका ज़िक्र है इस अफ़साने में!

जाने किसका ज़िक्र है इस अफ़साने में,
दर्द मज़े लेता है जो दुहराने में|

गुलज़ार

Leave a Reply