अल्फ़ाज़ में पिरोने का!

अगर पलक पे है मोती तो ये नहीं काफ़ी,
हुनर भी चाहिए अल्फ़ाज़ में पिरोने का|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply