कोई न रंज खोने का!

ये ज़िन्दगी भी अजब कारोबार है कि मुझे,
ख़ुशी है पाने की कोई न रंज खोने का|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply