तुम्हारी दीवार गल रही है!

मैं क़त्ल तो हो गया तुम्हारी गली में लेकिन,
मेरे लहू से तुम्हारी दीवार गल रही है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply