फिर दर्द कोई बोने का!

जो फ़स्ल ख़्वाब की तैयार है तो ये जानो,
कि वक़्त आ गया फिर दर्द कोई बोने का|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply