वो बस्ती भी जल रही है!

न जलने पाते थे जिसके चूल्हे भी हर सवेरे,
सुना है कल रात से वो बस्ती भी जल रही है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply