शौक़ है क्या आस्तीं भिगोने का!

बहाना ढूँढते रहते हैं कोई रोने का,
हमें ये शौक़ है क्या आस्तीं भिगोने का|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply