मुझसे शरमाता नहीं!

तुझसे क्या बिछड़ा मेरी सारी हक़ीक़त खुल गई,
अब कोई मौसम मिले तो मुझसे शरमाता नहीं।

वसीम बरेलवी

Leave a Reply