मुस्कुराने वाले थे!

भला ग़मों से कहाँ हार जाने वाले थे,
हम आँसुओं की तरह मुस्कुराने वाले थे|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply