अधूरा दिखाई पड़ता है!

न कोई ख़्वाब न कोई ख़लिश न कोई ख़ुमार,
ये आदमी तो अधूरा दिखाई पड़ता है|

जाँ निसार अख़्तर

2 Comments

Leave a Reply