सुनहरा दिखाई पड़ता है!

चमकती रेत पर ये ग़ुस्ल-ए-आफ़ताब तेरा,
बदन तमाम सुनहरा दिखाई पड़ता है|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply