किसी पे भरोसा किया न जाए!

हर-चंद एतिबार में धोखे भी है मगर,
ये तो नहीं किसी पे भरोसा किया न जाए|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply