घूँट को कड़वा किया न जाए!

हर वक़्त हमसे पूछ न ग़म रोज़गार के,
हम से हर घूँट को कड़वा किया न जाए|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply