सिफारिशों को इकट्ठा किया न जाए!

ईनाम हो, ख़िताब हो, वैसे मिले कहाँ,
जब तक सिफारिशों को इकट्ठा किया न जाए|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply