सूना किया न जाए!

उठने को उठ तो जाएँ तेरी अंजुमन से हम,
पर तेरी अंजुमन को भी सूना किया न जाए|

जाँ निसार अख़्तर

Leave a Reply