गुनहगार की तरह!

‘मजरूह’ लिख रहे हैं वो अहल-ए-वफ़ा का नाम,
हम भी खड़े हुए हैं गुनहगार की तरह|

मजरूह सुल्तानपुरी   

Leave a Reply