तुम्हें एक नज़र देखा है!

पहले सौ बार इधर और उधर देखा है,
तब कहीं जा के तुम्हें एक नज़र देखा है|

मजरूह सुल्तानपुरी

Leave a Reply