दीदा-ए-तर देखा है!

हम पे हँसती है जो दुनियाँ उसे देखा ही नहीं,
हमने उस शोख को जो दीदा-ए-तर देखा है|

मजरूह सुल्तानपुरी

Leave a Reply